Bijnor Express

instagram follow

बिजनौर के संयुक्त चिकित्सालय स्टाफ़ में कोरोना संक्रमण की एंट्री के बाद अस्पताल प्रशासन में मची खलबली

बिजनौर:- जनपद बिजनौर में कोरोना थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। जनपद में अब प्रवासी व्यक्तियों के साथ साथ कोरोना की चपेट में आने वाले सरकारी कर्मचारियों की सँख्या बढ़ती जा रही है। जनपद में कहीं पुलिस कोरोना की चपेट में तो कहीं बैंक कर्मचारी तो कही स्वास्थ्य विभाग।
      वहीं बुधवार की शाम को जिला संयुक्त चिकित्सालय की एक नर्स कोरोना पॉजिटिव की सूचना मिलने पर जनपद के स्वास्थ्य विभाग व बिजनौर प्रशासन में अफरा तफ़री मच गयी।  बिजनौर जिला चिकित्सालय में एक महिला कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव आने से पूरे चिकित्सालय को दो दिन के लिए सील कर दिया है। जिला अस्पताल का सेनेटाइजेशन कराया जा रहा है। जिला  इस दौरान जिला अस्पताल की समस्त सेवाएं ठप रहेंगी। इसमें इमरजेंसी और प्रसव भी शामिल है। साथ ही कोविड-19 के जांच और इलाज की व्यवस्था भी शामिल है।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि जब तक जिला अस्पताल सील है तब तक जिला अस्पताल में किसी भी तरह के नए मरीज नहीं भर्ती होंगे, केवल भर्ती मरीज का इलाज होगा। इस दौरान जिला अस्पताल में किसी के भी आवागमन पर रोक लगा दी गई है।

प्रशासन द्वारा जिला चिकित्सालय को सेनेटाइजेशन व सील करने के आदेश के साथ आवश्यक निर्देश दिए गए है। जिला अस्पताल भले ही 48 घंटे के लिए सील किया गया हो, लेकिन जिला अस्पताल का सेनेटाइजेशन कार्य पूरा करने में कम से कम दो दिन लगेंगे। तीन चरण में सेनेटाइजेशन होने के बाद और सभी कर्मचारियों का सैंपल रिपोर्ट आने के बाद ही जिला अस्पताल का सुचारू तौर पर संचालन हो सकता है।

ऐसी स्थिति में माना जा रहा है कि सोमवार से पहले जिला अस्पताल में इमरजेंसी तक शुरू हो पाने की संभावना नहीं है। आज शाम तक केवल अस्पताल के भवनों का बाह्य भाग का ही फायर विभाग  की ओर से सेनेटाइजेशन किया जा सका। अंदर और बाहर तीन चरण में सेनेटाइजेशन करने का मानक है। वहीं जिला अस्पताल के साथ आवासीय परिसर का भी सेनेटाइजेशन होना है

बिजनौर एक्सप्रेस के माध्यम से लाखो लोगो तक अपने व्यापार(Business), व्यक्तिगत छवि,चुनाव व व्यवसायिक उत्पाद(Products) प्रचार प्रसार हेतु संपर्क करें- 9193422330 | 9058837714

और पढ़ें

error: Content is protected !!